Thursday, 13 September 2018

Sad Shayari Tut kar bikhar jate hai wo log

Read Shayari in Hindi
Sad shayari in hindi
Sad Shayari In Hindi

Mohabbat ke naam par diwane chale aate hai, Sma ke piche parwane chale aate hai,
Tumhe yaad na aai chale aana meri maut par, Uss din to begane bhi chale aate hai.
मोहब्बत के नाम पर दीवाने चलें आते है, स्मा के पीछे परवाने चले आते है,
तुम्हे याद ना आई चले आना मेरी मौत पर, उस दिन तो बेगाने भी चले आते है।

Na pass jane deta hai na dur usse hone deta hai, Na dil se mere noor khone deta hai,
Na jane kaisi kismat likhi hai khuda ne meri, Na dil se mushkurane deta hai, Na khul ke rone deta hai.
ना पास जाने देता है ना दूर उससे होने देता है, ना दिल से मेरे उसका नुर खोने देता है,
ना जाने कैसे किस्मत लिखी है खुदा ने मेरी, ना दिल से मुस्कुराने देता है कभी, ना खुल के रोने देता है।

Uss masoom sharab ki mohabbat bhi kya khub thi.
Jalim ek baat labo par lagi to phir kabhi usne bewafai na ki.
उस मासूम शराब की मोहब्बत भी क्या खूब थी।
जालिम एक बार लबो पर लगी तो फिर कभी उसने
बेवफाई न की।"

Ajab tamasha hai maati se bane logi ki, Bewafai karo to rote hai or wafa karo to rulate hai.
अजब तमाशा है माटी से बने लोगो की, बेवफाई करो तो रोते है वफा करो तो रुलाते है।

Teri aankho me main kho nhi sakta, Tere kandhe pe main so nhi sakta,
Hai to bahut aansu mere aankho me par, Tere samne to main ro bhi nhi sakta.
तेरी आंखों में मैं खो नही सकता, तेरे कंधे पे मैं सो नहीं सकता,
है तो बहुत आंसू मेरे आंखों में पर, तेरे सामने तो मैं रो भी नहीं सकता।

Maine to bas usse itni si baat kahi thi ki tu mujhe bhulne lagi hai par usne iss baat ko kuch galat aandaj se lekar meri chahat ko shak ka naam de diya.
मैंने तो उससे बस इतनी सी बात कही थी कि तू मुझे भूलने लगी है पर उसने इस बात को कुछ गलत अंदाज से लेकर मेरी चाहत को शक का नाम दे दिया।

Itni jaldi kya hai mujhe chhodne ki abhi to had baki hai mujhe todne ki,
Khilona hu main gum na kar mere tutne ka, Mil jayega nya jarurat nhi mujhe jodne ki.
इतनी जल्दी क्या है मुझे छोड़ने की अभी तो हद बाकी है मुझे तोड़ने की,
खिलौना हूं मैं गम ना कर मेरे टूटने की, मिल जाएगा नया जरूरत नहीं मुझे जोड़ने की।

Dil me deep jalane se kya fayada pani me aag lagane se kya fayada, Jisko nahi aati yaad hamari jabardasti usko yaad dilane se kya fayada.
दिल में दीप जलाने से क्या फायदा पानी में आग लगाने से क्या फायदा, जिसको नहीं आती याद हमारी जबरदस्ती उसको याद दिलाने से क्या फायदा।

Bina bataye na jane kyu usne duri kar di, Bichhad ke usne mohabbat hi adhuri kar di. Mere mukaddar me gum hi aaye to kya huaa, Khuda ne uski khwahis to puri kar di.
बीना बताए ना जाने क्यों उसने दूरी कर दी, बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी। मेरे मुकद्दर में गम ही आए तो क्या हुआ, खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी।

Maut mangte hai to jindagi khafa ho jati hai jahar lete hai to wo bhi dawa ho jati hai. Tum hi batao ye mere dost kya karu main, Jisko bhi chahte hai wo bewafa ho jati hai.
मौत मांगते है तो जिंदगी ख्फा हो जाती है जहर लेते है तो वो भी दवा हो जाती है। तुम ही बताओ ऐ दोस्त क्या करू मैं, जिसको भी चाहते है वो बेवफा हो जाती है।

Rone ki saja na rulane ki saja hai ye dard mohabbat ko nibhane ki saja hai, Hanste hai to aankho se nikal aate hai aansu, Ye apne dil me gum chhupane ki saja hai.
रोने की सजा ना रुलाने की सजा है ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सजा है, हंसते है तो आंखों से निकाल आते है आंसू, ये अपने दिल में गम छुपाने की सजा है।

Tumne sada sath nibhane ka wada tod diya, Bich rah me mera sath chhod diya. Kahte the sath nibhayenge marte dum tak ye sanam, Lekin aadhe raste me hi marne ke liye akela chhod diya.
तुमने सदा साथ निभाने का वादा तोड़ दिया, बीच राह में मेरा साथ छोड़ दिया। कहते थे साथ निभाएंगे मरते दम तक ऐ सनम, लेकिन आधे रास्ते में ही मरने के लिए अकेला छोड़ दिया।

Gamo ke barshat samete betha hu kisi bewafa se dhokha khaye betha hu, Jane kab dega upar wala maut mujhe, Khuda ke bharose ye aas lagaye betha hu.
गमो के बरसात समेटे बैठा हूं किसी बेवफा से धोखा खाए बैठा हूं। जाने कब देगा ऊपर वाला मौत मुझे, खुदा के भरोसे ये आस लगाए बैठा हूं।

Muskurati aankho se apsana likha tha shayad aapka meri jindagi me aana likha tha, Takdeer to dekho meri aansuo ki, Iska bhi aap ki yaad me bah jana likha tha.
मुस्कुराती आंखों से अपसना लिखा था शायद आपका मेरी जिंदगी में आना लिखा था, तकदीर तो देखो मेरी आंसुओ की, इसका भी आप की याद में बह जाना लिखा था।

Umra bhar chalte rahe magar kandho pe aaye kabra tak, Bad kuch kadam ki waste gero ka ahsan ho gya.
उम्र भर चलते रहे मगर कंधो पे आये कब्र तक, बस कुछ कदम के वास्ते गैरों का अहसान हो गया

Ye na puchh ki main sharabi kyu huaa bas yun samajh le gamo ke bojh se nashe ki botal sasti lagi.
ये ना पूछ मैं शराबी क्यू हुआ बस यूँ समझ ले गमों के बोझ से नशे की बोतल सस्ती लगी।

Usne dekha hi nahi apni hatheli ko gor se kabhi, Usme dhundhli si ek lakeer mere naam ki bhi thi.
उसने देखा ही नही अपनी हतेली को गोर से कभी,
उसमे धुंदली सी एक लकीर मेरे नाम की भी थी।

Tut kar bikhar jate hai wo log mitti ki diwaro ki tarah, Jo khud se bhi jayada kisi aur se mohabbat kiya karte hai.
टूट कर बिखर जाते है वो लोग मिट्टी की दीवारो कि तरह, जो खुद से भी ज्यादा किसी और से मोहब्बत किया करते है।

Meri mohabbat ki itni si kahani hain tuti huyi kasti ruka huaa pani hai, ek gulab unke kitab me dum tod chuka tha aur unko yaad hi nahi ki ye kiski nishani hai.
मेरी मोहब्बत की इतनी सी कहानी है टूटी हुई कस्ती रुका हुआ पानी है, एक गुलाब उनके किताब में दम तोड़ चुका है और उनको याद ही नहीं की ये किसकी निशानी है।

Pyaar kisi se bhi karo ruswai milegi, Wafa chahe karo jitni bewafai milegi.
Chahe jitna kisi ko sapno me bula lo, jab aankhe khulegi to tanhai milegi.
प्यार किसी से भी करो रुसवाई मिलेगी, वफा चाहे करो जितनी बेवफाई मिलेगी। चाहे जितना किसी को सपने में बुला लो, जब आंखें खुलेगी तो तन्हाई मिलेगी।

Teri wafa me sanam na watan ke rahe na safar ke rahe,
Bikhari lash ke itne tukade huye, Na kafan ke rahe na dafan ke huye.
तेरी वफ़ा में सनम ना वतन के रहे ना सफर के रहे, बिखरी लाश के इतने टुकड़े हुए, ना कफ़न के हुए ना दफन के हुए।

Sukun apne dil ka maine kho diya, Khud ko tanhai ke samandar me dubo diya. Jo tha kabhi muskurane ki wajah, aaj uski kami me meri palko ko bhiga diya.
सुकून अपने दिल का मैंने खो दिया, खुद को तन्हाई के समन्दर में डूबो दिया। जो था कभी मेरी मुस्कुराने की वजह, आज उसकी कमी ने मेरी पलकों को भीगा दिया।

2 comments: