Saturday, 22 September 2018

Shayari Jiske liye likhta hu wo kabhi dekhti nhi


Kya likhun status me, Jiske liye likhta hu wo kabhi dekhti nhi or jo dekhte hai wo samajhte nhi.
Ha ye sach hai kuch riste badalte nhi, Halat kaise bhi ho wo bikharte nhi.
Par sach ye bhi hai ki Kabhi kabhi jindagi me aise mod aate hai, Na chahte huye bhi kai riste tod aate hai. Ab to baki bas itna sa afsana hai, Kabhi uske yaado ke sahare hans lete hai to kabhi uski kami par ro dete hai. Par jab bhi kisi mandir ya masjid se nikalte hai, uski khushi ke liye duaa jarur kar dete hai.
क्या लिखूं स्टेटस में, जिसके लिए लिखता हूं वो कभी देखती नहीं और जो देखते है वो समझते नहीं।
हां ये सच है कुछ रिश्ते बदलते नहीं, हालत कैसे भी हो वो बिखरते नहीं। पर सच ये भी है कि कभी कभी जिंदगी में ऐसे मोड़ आते है ना चाहते हुए भी कई रिश्ते तोड़ आते है। अब तो बाकी बस इतना सा अप्साना है कभी उनकी यादों पर हंस लेते है तो कभी उनकी कमी पर रो देते है। पर जब भी किसी मंदिर या मस्जिद से गुजरते है उसकी खुशी के लिए दुआ जरूर कर देते है।

Bas ek reply ke intzaar me raat yun hi bit jayegi..
Ab to uski dp hai sath mere nind kha aayegi. Subah ki kiran na jane kaun sa sandesha layegi, Wo mere pyaar ko apnayegi ya "I have hai boyfriend" kah ke offline chali jayegi.
बस एक रिप्लाइ के इंतजार में रात यूं ही बीत जाएगी..
अब तो उसकी डीपी है साथ मेरे नींद कहां आएगी। सुबह की किरण ना जाने कौन सा संदेशा लाएगी वो मेरे प्यार को अपनाएगी या I have a boyfriend कह के ऑफलाइन चली जाएगी।

Bas tujh se door jane ki kami hame jindagi bhar stayegi, Mujhe yun block karke tu kaise khush rah payegi. Ab to aane wali subah bas yahi sandesha layegi, Tu kisi aur ko apnayegi or meri jindagi se hamesa hamesa ke liye veran ho jayegi.
बस तुझसे दूर जाने की कमी हमें जिंदगी भर सताएगी, मुझे यूं ब्लॉक करके तू कैसे खुश रह पाएगी। अब तो आने वाली सुबह बस यही संदेशा लाएगी, तू किसी और को अपनाएगी और मेरी जिंदगी से हमेशा हमेशा के लिए वीरान हो जाएगी।

Mere pyaar ka dhaga bas teri kahani hai bunta, Mere sine ke har dhadkan pe bas tera hi naam rahta. Ek daur tha jab tum sirf acche lagte the ab baat itni badh gyi ki tum bin kuch accha nhi lagta. Teri WhatsApp ki har dp apni galary me chhupa ke rakhti hu kisi raat kambal ke niche chhup chhup ke dekha karti hu. Le chal mujhko sath tere mujhe tere sath hi rahna hai sach kahu to mujhko tere bin ab kuch accha nhi lagta.
मेरे प्यार का धागा बस तेरी कहानी है बुनता, मेरे सीने के हर धड़कन पे बस तेरा ही नाम है रहता। एक दौर था जब तुम सिर्फ अच्छे लगते थे अब बात इतनी बढ़ गई है कि तुम बीन कुछ अच्छा नहीं लगता। तेरी वॉट्सएप की हर डीपी अपनी गैलरी में छुपा के रखती हूं किसी रात कम्बल के नीचे छुप छुप के देखा करती हूं। ले चल मुझको साथ तेरे मुझे तेरे साथ ही रहना है सच कहूं तो मुझको तेरे बिन अब कुछ अच्छा नहीं लगता।

Sabse karti hu maltab ki baate tumhare dil ka haal batati hoon. Yaar, dost to bahana hai sirf tumhare liye online aati hoon. Tum offline chale jate ho tumhara message padh ke muskhurati hoon, Yaar dost to sab bahana hai bus tumhare liye online aati hu. Jab se tumko jana hai bas itna mana hai main teri Radha or tu mera Kanha hai. Yaar dost to bas bahana hai mujhe to bas tumhare liye online aana hai.
सबसे करती हूं मतलब की बाते तुम्हारे दिल का हाल बताती हूं। यार, दोस्त तो बहाना है सिर्फ तुम्हारे लिए ऑनलाइन आती हूं। तुम ऑफलाइन चले जाते हो तुम्हारा मैसेज पढ़ के मुस्कुराती हूं यार दोस्त तो सब बहाना है बस तुम्हारे लिए ऑनलाइन आती हूं। जब से तुमको जाना है बस इतना ही माना है मैं तेरी राधा हूं तू मेरा कान्हा है। यार दोस्त तो सब बहाना है मुझे तो बस तुम्हारे लिए ऑनलाइन आना है।

Jiss rah par har baar mujhe apna koi chhalta raha, Phir bhi na jane kyu main usi raah pe chalta raha. Socha tha is baar roshani nhi dhunaa dunga lekin chirag tha fitrat se jalta raha jalta hi raha...
जिस राह पर हर बार मुझे अपना कोई छलता रहा, फिर भी ना जाने क्यों उसी राह पर मैं चलता रहा सोचा था इस बार रोशनी नहीं धुआं दूंगा लेकिन चिराग था फितरत से जलता रहा जलता ही रहा....

0 comments: